( ISSN 2277 - 9809 (online) ISSN 2348 - 9359 (Print) ) New DOI : 10.32804/IRJMSH

Impact Factor* - 6.2311


**Need Help in Content editing, Data Analysis.

Research Gateway

Adv For Editing Content

   No of Download : 9    Submit Your Rating     Cite This   Download        Certificate

माध्यमिक स्तर के विद्यार्थियों का सृजनात्मकता का अध्ययन

    2 Author(s):  KALYAN KUMAR,DR . SMT REKHA GUPTA

Vol -  13, Issue- 6 ,         Page(s) : 274 - 280  (2022 ) DOI : https://doi.org/10.32804/IRJMSH

Abstract

शिक्षा का प्राथमिक लक्ष्य बच्चे के सर्वांगीण विकास को बढ़ावा देना है। समग्र विकास का अर्थ मुख्य रूप से शारीरिक, बौद्धिक, नैतिक, व्यावसायिक और सामाजिक विकास है। इसे शिक्षा के माध्यम से ही प्राप्त किया जा सकता है। यह बच्चे को सांस्कृतिक रूप से विकसित सामाजिक प्राणी बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। शिक्षा एक सतत प्रक्रिया है जो किसी व्यक्ति के मरने से पहले शुरू होती है।

Ishaq, A and Rani, E. O. Comparative Analysis of the Discussion and Constructivism Methods of Teaching Adult Learners in Adult Education. Journal of Education and Practice (Online) www.iiste.org 2 (4). 6-9. 2011.
Farrant, J. S (1999). Principles and Practice of Education. Singapore: Longman.
Gillies, R. M and Ashman, A. F. Co-Operative Learning: The Social and Intellectual Outcomes of Learning in Groups. (Online Book). www.questia.com Routledge Falmer, London, 2002.

*Contents are provided by Authors of articles. Please contact us if you having any query.






Bank Details