Find Below Articles Published

Find Below Articles Published in
Volume -8 Issue - 10
Month [Year] -- October [2017]
*Contents are provided by Authors of articles. Please contact us if you having any query.

No of Download : 16    Submit Your Rating     Cite This          
Abstract

Gender based violence against women is a public health issue that leaves no portion of the earth free and while many nations and populations are making efforts to combat the problem, it is still rampant. This study investigated the prevalence of abuse among female healthcare professionals in Northern Nigeria.

No of Download : 78    Submit Your Rating     Cite This          
Abstract

सम्प्रति, किसी राष्ट्र की विदेश नीति उसके द्वारा राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय परिवेश में अपने राष्ट्रीय हितों को इष्टतम बनाने का प्रयास होती है। एक राष्ट्र की विदेश नीति में उस राष्ट्र की आन्तरिक एवं वाह्य परिस्थितियों के साथ-साथ, नीति-निर्माता के व्यक्तित्व की भी महत्वपूर्ण भूमिका होती है।

No of Download : 14    Submit Your Rating     Cite This          
Abstract

Biological diversity or ‘Bio diversity’ is defined as the diversity of all living forms at different level of complexities: genes, species, ecosystem and even landscapes. Biodiversity is essential not only for the proper functioning of the earth system but also for the survival of the mankind, the rich varieties of genes, species, biological communities and life supporting biological and chemical processes give us food, wood, fibres, energy , raw material industrial chemical and medicine. It also provides us with free recycling, purification and maintains ecological balance.

No of Download : 8    Submit Your Rating     Cite This          
Abstract

संसार का हर एक व्यक्ति (प्राणी)अनादिकाल से भ्रमण करता रहा है और वह अध्यात्मिक आदिभंतिक व आदिदैविक इन तीन दुखों को झेलता आ रहा है। वो इन तीन दुखों से पूर्ण रूप से छुटकारा पाना चाहता है। परन्तु जितना वह संसार कि मोह माया में डूबता जाता हैए उतना ही उसमे फसता चला जाता है। क्योंकि वो जैसे जैसे कर्म करता हैए वैसे.वैसे उसे अपने कर्मो का फल भोगना पड़ता है। कर्म अच्छे हो तो फल अच्छा होगा और कर्म बुरे हो तो फल भी बुरे ही मिलेंगे। यही जीवन का बन्धन है तथा दुखों व कर्मों से अनिवार्य रूप से छुटकारा ही मुक्ति है।